शीर्षासन करने का बेहतरीन तरीका और फ़ायदे | Shirshasana(Headstand) Steps and Benefits in Hindi

0
39
Shirshasana images

शीर्षासन Shirshasana करने का तरीका और फ़ायदे [Shirshasana(Headstand) steps, benefits in Hindi]

सिर के बल किए जाने वाले आसन को शीर्षासन(Shirshasana) कहते हैं। शीर्षासन का नाम ‘शीर्ष’ शब्द पर रखा गया है जिसका अर्थ ‘सिर’ होता है। शीर्षासन(Headstand) को सभी आसनों का राजा माना जाता है। यह एक एडवांस योगिक क्रिया है इसलिए इसे शुरुआत करने में कठिनाई होती है। लेकिन निरंतर अभ्यास से आप इसको कर पाएंगे।

इसे आसनों का राजा कहा जाता है इसी से इसके लाभों की घोषणा की जाती है। यह शरीर के लिए ही नहीं मस्तिष्क, बुद्धि, स्मृति तथा तेज के लिए भी लाभप्रद है। गुरुत्वाकर्षण नियम के विपरीत हो जाने से इस आसन से हृदय को भी विश्राम लाभ मिलता है।

इस लेख में शीर्षासन करने का तरीका, फायदे और बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में बताया गया है। और हां साथ में शीर्षासन से संबंधित एक वीडियो भी साझा किया गया है जिसे देखना ना भूलें।

और भी पढ़े – सूर्यनमस्कार करने का तरीका 

शीर्षासन करने का तरीका | Shirshasana Karne ka Tarika

  • शीर्षासन करने के लिए एक कंबल या तौलिया बिछाकर वज्रासन में बैठ जाएं।
  • इसके अलावा आप अंगोछे आदि कपड़े को गोल घेरा नुमा गद्दी बनाकर रख लें जिस पर आपको अपने सिर को टिकाना होगा।
  • अब आगे झुक कर अपनी अंगुलियों को इंटरलॉक करें और कोहनियों को जमीन पर टिका दें।
  • सिर को तौलिया या किसी कपड़े की गद्दी पर रखें और इंटरलॉक की हुई अंगुलियों से सिर के पीछे से सहारा दें।
  • अपने घुटनों को सीधा करते हुए पैरों को फैला लें।
  • अब पैरों को अपने सिर की तरफ धीरे-धीरे लाएं।
  • अपने पैरों से थोड़ा दबाव देकर अपने पैरों को ऊपर की तरफ उठाएं।
  • इस दौरान आपका पूरा शरीर बिल्कुल सीधा होना चाहिए और अपने शरीर का संतुलन बनाए रखना है।
  • आपके घुटने और पंजे आपस में सटे होंगे।
  • इस स्थिति में कुछ देर रुकते हुए स्वास-प्रस्वास की क्रिया करते रहें।
  • वापस आने के लिए अपने पैरों को धीरे-धीरे नीचे ले आए।
  • पैर नीचे करने के बाद आपको तुरंत खड़ा होना है ताकि रक्त का प्रवाह फिर सिर से नीचे की तरफ होने लगे।
  • जितनी देर आपने शीर्षासन(Shirshasana) किया है उतनी ही देर आपको खड़ा होना है।
  • इसी प्रक्रिया को आप 3 से 4 बार दोहरा सकते हैं। जब निपुण हो जाए तब समय सीमा को भी बढ़ा सकते हैं।

और भी पढ़े – रोग प्रतिरोधक छमता कैसे बढ़ाए 

शीर्षासन करने का आसान तरीका | Sirshasana Karne ka Aasan tarika

  • चूकि शीर्षासन(Shirshasana) एक एडवांस पोज है इसलिए शुरुआत में सभी को करने में कठिनाई होती है।
  • इसका अभ्यास करते वक्त यह सुनिश्चित करें कि आप के पीठ के पीछे एक दीवार हो।
  • अब ऊपर दी गई सभी क्रियाओं को अपनाते हुए अपने शरीर को दीवार पर टिका लेना है।
  • जब आपको आभास हो कि आप संतुलन बना सकते हैं तभी पैरों को दीवार से हटाए।

और भी पढ़े – कोरोना से बचने के घरेलु उपाय

शीर्षासन कितनी देर करें | Sirsasana Kitni Der Tak Karna Chahiye

आप शुरुआत में 1 मिनट से लेकर अधिकतम 5 मिनट तक इसका अभ्यास कर सकते हैं। इसके बाद जब आप निपुण हो जाए , अवधि बढ़ा सकते हैं। यह वास्तव में आपके उपर निर्भर करता है। शुरुआत में इसे 1 मिनट तक करें। अगर आप सहज महसूस करते हैं तो समय बढ़ाएं।

और भी पढ़े – योग क्या है ?

शीर्षासन के फायदे | Shirshasana(Headstand) ke Fayde

  • शीर्षासन(Headstand) से युवावस्था लंबे समय तक बनी रहती है।
  • बाल असमय सफेद नहीं होते, बाल झड़ना, टूटना व सफेद होना है रुकता है। क्योंकि बालों को अधिक मात्रा में रक्त पोषण मिलता है।
  • दिमाग शांत होता है तनाव और अवसाद में राहत मिलती है।
  • नियमित रूप से अभ्यास करने पर याददाश्त में सुधार होता है।
  • सिर में रक्त की आपूर्ति बढ़ने पर सिर, आंख, कान आदि अंगों के लिए भी फायदेमंद होता है।
  • वीर्य उर्ध्वगति होने से वीर्य रक्षा होती है अतः ब्रम्हचर्य में मदद मिलती है।
  • आंखों की ज्योति तथा चेहरे का तेज बढ़ता है।
  • पाचन तंत्र मजबूत होता है। पैरों तथा कमर का दर्द दूर होता है।
  • श्वसन संबंधी विकार दूर होते हैं और फेफड़े सशक्त होते हैं।

और भी पढ़े – प्रतिरोधक छमता बढ़ाने वाले 4 आहार 

शीर्षासन करते समय सावधानियां | Shirshasana Karte Samay Savdhaniya

  • स्त्रियों को मासिक धर्म या गर्भावस्था में इसे नहीं करना चाहिए।
  • इस आसन का अभ्यास खाली पेट ही करना चाहिए।
  • सिर दर्द, गर्दन में दर्द, ह्रदय रोग, उच्च रक्तचाप की समस्या होने पर चिकित्सक के परामर्श के बाद ही करें।
  • शीर्षासन(Headstand) के बाद खड़े हो जाएं या ताड़ासन करें।

और भी पढ़े – प्राणायाम करने के लाभ और विधि

शीर्षासन से पहले करने वाले आसन | Shirshasana se Pahle Karne Wale Aasana

  • मत्स्यासन (Matsyasana or Fish Pose)
  • उत्तानपाद आसन (Uttanpad asana or Raised Feet Pose)
  • पिंडासन (Pindasana or Embryo Pose)
  • कर्णपीड़ासना (Karnapidasana or Ear Pressure Pose)

शीर्षासन के बाद करने वाले आसन | Shirshasana ke Bad Karne Wale Aasana

शीर्षासन का वीडियो | Shirshasana Steps Video in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here