विपरीत करनी योग करने का सही तरीका और फ़ायदे | Viparita Karani Steps and Benefits in Hindi

विपरीत करनी आसन, करने का तरीका, लाभ, फ़ायदे (Viparita Karani yoga steps benefits hindi, Legs up the Wall Pose Benefits)

विपरीत करनी योग एक संस्कृत शब्द है, जो उल्टे योग के प्रक्रिया को दर्शाता है। यह दो शब्दों से मिलकर बना है, जिसमे पहला शब्द “विपरीत” जिसका अर्थ उल्टा और दूसरा शब्द “करनी” है जिसका अर्थ “करना” होता है। विपरीत करनी की मदद से शरीर को बलवान और सुडौल बनाया जा सकता है। यह आसन बिल्कुल सर्वांगासन के समान है जिसमें पैरों को ऊपर की ओर करना होता है। इस लेख में विपरीत करनी के आसन को करने का तरीका और उससे होने वाले फायदे और सावधानियों के बारे में बताया गया है, साथ ही साथ लेख के अंत में विपरीत करनी योगा करते हुए एक वीडियो भी शेयर किया गया जिसे देखना ना भूलें।

आइए विपरीत करनी (Viparita Karani) आसन करने का तरीका उस से होने वाले फायदे और उसकी सावधानियां को विस्तार से जानते हैं।

और पढ़े :- चक्रासन योग के 10 लाभ

विपरीत करनी आसन के फायदे – Viparita Karani Benefits in hindi

विपरीत करनी मुद्रा (Viparita Karani Mudra) के फायदे इस प्रकार है..

माइग्रेन सिरदर्द में

इस आसन को करने में सिर नीचे फर्श पर और पैर ऊपर रहता है जिससे सिर में ताजा रक्त पहुंचता है, जो अवसाद और अनिद्रा के लक्षणों से निजात दिलाता है। यह एक ऐसा आसान है जब मन को प्रसन्ना और शांत करने में मदद करता है जिससे माइग्रेन और सिर दर्द से राहत मिलती है।

पैर के दर्द में

विपरीत करनी मुद्रा में पैरों की एक्सरसाइज अच्छी होती है जिसे पैरों में दर्द और थकावट दूर होती है जब हाथ और कोहनियों की सहायता से कमर को ऊपर उठाते हैं तो इससे पैर को रिलैक्स मिलता है और थकान दूर हो जाती है।

पाचन क्रिया में

पेट के अंदरूनी अंगों के लिए भी विपरीत करनी मुद्रा को लाभदायक माना जाता है क्योंकि इस मुद्रा में पेट के अंदर गुरुत्वाकर्षण बल में कुछ बदलाव आता है जिसे अंग उत्तेजित हो जाते हैं और पाचन क्रिया तेज होती है।

रक्त परिसंचरण में

विपरीत करनी मुद्रा के नियमित रूप से अभ्यास करने से मस्तिष्क से लेकर टांगो तक हर अंग में पर्याप्त मात्रा में खून पहुंचता रहता है जिससे पूरा शरीर स्वस्थ रहता है।

पीठ दर्द में

लेग्स अप द वॉल पोज या विपरीत करनी योग के नियमित अभ्यास से आते स्वस्थ रहते हैं और डाइजेशन में सुधार होता है। इसका अभ्यास करते वक़्त जब हमारी कमर ऊपर की ओर जाती है तो कमर की मांसपेसियों को आराम मिलता है तो पीठ दर्द में राहत मिलता है।

अनिद्रा से राहत

आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में अनिद्रा की समस्या बहुत बढ़ गई है इस आसन के नियमित अभ्यास से अनिद्रा की समस्या के कुछ हद तक ठीक किया जा सकता है। जब इस आसन में हम अपने शरीर को होल्ड करते हैं तो पूरा मन शांत हो जाता है और नकारात्मक विचार कम होने लगते हैं जिसकी वजह से अनिद्रा की समस्या को दूर किया जा सकता हैं।

और पढ़े जानिए क्यों है जरुरी सूर्यनमस्कार

Viparita Karani Benefits in hindi
Viparita Karani (Legs up the Wall Pose) Steps and Benefits in Hindi

विपरीत करनी आसन करने का तरीका – Viparita Karani Mudra in Hindi

विपरीत करनी मुद्रा(Viparita Karani Mudra) एक बहुत ही सरल आसन है इसे किसी भी उम्र के व्यक्ति कर सकते हैं नीचे कुछ आसन की स्टेप्स दिए गए हैं जिसकी मदद से आप इसे आसानी से फॉलो कर सकते हैं।

  • सबसे पहले खुले वातावरण में एक योगा मैट को फर्श पर बिछा कर पीठ के बल लेट जाएं।
  • अपने दोनों हाथों को शरीर के पास जमीन पर सीधा रखें।
  • अब धीरे-धीरे दोनों पैरों को ऊपर की ओर उठाएं और अपने ऊपर के शरीर को फर्श पर ही टिका कर रखें।
  • अब अपने पैरों को इस पोजीशन तक उठा ले की पैरों और कमर के बीच 90 डिग्री का कोण बन जाए।
  • थोड़ा आराम पाने के लिए अपने कूल्हे के नीचे किसी तकिए या मोटे कपड़े को मोड़ कर रख सकते हैं या तो अपने हाथ को कमर के नीचे लगा सकते हैं।
  • सुनिश्चित कर लें कि आपकी पीठ और शेर फर्श पर एक सीधी दिशा मे हो।
  • अपनी क्षमता अनुसार इस स्थिति में आप 2 से 5 मिनट तक अभ्यास कर सकते हैं।
  • फिर धीरे-धीरे हाथों से कमर को सहारा देते हुए पैरों के साथ-साथ कूल्हे को जमीन पर रखें और शरीर को आराम दें।

विपरीत करनी योग से पहले यह आसन करें – Viparita Karani Mudra se Pahle ye Asan karen

बालासन
मार्जरी आसन
भुजंगासन
उत्तानासन

और पढ़े –

विपरीत करनी योगा करने का आसान तरीका – Viparita Karani Yoga karne ka aasan Tarika

  • अगर आपको ऊपर दिए गए तरीके से करने में कठिनाई हो रही है तो दीवार के समीप लेट जाइए। पैरों और कुल्हों को ऊपर की ओर उठाकर दीवार पर टिका ले और कमर को जमीन पर ही रखें।
  • यह विपरीत करनी मुद्रा का एक आसान है रूपांतरण है अगर इस स्थिति में भी आपके पैर और कुल्लू में खिंचाव आ रहा है तो अपने पैर को जरूरत के अनुसार मोड़ सकते हैं।

विपरीत करनी में क्या सावधानी बरती जाए – Viparita Karani (Legs up the Wall Pose) me kya Savdhani Barte

विपरीत करनी आसन(Viparita Karani) करने से पहले नीचे दी गई सावधानियों को ध्यान से जरूर पढ़ ले..

  • कंधे की सर्जरी या पीठ दर्द की समस्या हो तो यह आसन आपके लिए वर्जित है।
  • आंखों के मोतियाबिंद जैसी गंभीर समस्या है तो इस आसन को करने से बचें।
  • पैरों को ऊपर उठाने में बल पूर्वक अभ्यास ना करें।
  • घुटने या कूल्हे में चोट होने पर इस आसन को नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए यह आसन वर्जित है।
  • अपने मासिक धर्म के दौरान इस आसन का अभ्यास ना करें।
  • जिनको हाई या लो बीपी की समस्या है तो भी इस आसन को ना करें।

और पढ़े :- क्या है गरुड़ासन ?

विपरीत करनी योगा वीडियो – Viparita Karani Yoga Video in Hindi

Legs up the Wall Pose in HIndi

होम पेज पर जाये

Leave a Comment